ब्रेडक्रम्ब्स

मृदा

अवलोकन

भू-निम्नीकरण के मानचित्र तैयार किए गए, जो मृदा संरक्षण / उद्धार कार्यक्रम नियोजन, भूमि उपयोग नियोजन, अतिरिक्त क्षेत्रों को खेती के अंतर्गत लाने और निम्नीकृत भूमि में उत्पादकता के स्तर में सुधार के लिए उपयोगी है। भुवन पोर्टल में लवण प्रभावित और जल जमाव वाले क्षेत्र, मृदा अपरदन के नक्शे उपलब्ध कराए गए हैं।
 
देश के कुछ चुने हुए जिलों में 1: 25,000 और 1: 12,500 पैमाने पर मृदा संबंधी मानचित्र तैयार करने के लिए अध्ययन किया गया। मृदा के ग्राम स्तर प्रबंधन, बृहत् पोषक तत्व प्रबंधन के लिए समरूप प्रबंधन क्षेत्रों का सीमांकन, एकधा सस्यन कृषि प्रणाली में परिशुद्ध कृषि के लिए आवश्यक मृदा मानचित्र को 1:10,000 पैमाने पर तैयार करने के लिए प्रायोगिक तौर पर कई अध्ययन किए गए हैं। राष्ट्रीय कार्बन परियोजना के भाग के रूप में मृदा कार्बन गतिकी पर अध्ययन किया गया था, जिसने राष्ट्रीय भूमि तटस्थता लक्ष्यों के लिए यूएनसीसीडी को महत्वपूर्ण जानकारियां (इनपुट) प्रदान की।
 

सुदूर संवेदन आधारित मृदा मानचित्र - फिजियोग्राफी (स्थलरूप), शैल विज्ञान, और भू-भाग के साथ जुड़े वनस्पति प्रकार के बीच निकट संबंध को संबोधित करने के लिए मिट्टी का संकर पद्धति के माध्यम से जनन किया जाता है और इसमें होने वाली मिट्टी का उपयोग मानचित्रण के दौरान किया जाता है।

मोनोस्कोपिक (गैर-स्टीरियोस्कोपिक) दृश्य निर्वचन और कंप्यूटर की मदद से डिजिटल विश्लेषण दृष्टिकोणों के माध्यम से आईआरएस संवेदकों के उपग्रह आंकड़ों (डेटा) का उपयोग मृदा मानचित्र तैयार करने के लिए किया जाता है। दृश्य व्याख्या निर्वचन में, फिजियोग्राफी (स्थलरूप), शैल विज्ञान, और भूभाग से जुड़े वनस्पतियों के बीच निकट संबंध का उपयोग मानचित्रण के लिए किया जाता है। मृदा संसाधन मानचित्र से, सहायक विषयगत जानकारी का उपयोग करके भूमि की क्षमता, सिंचाई और उपयुक्तता जैसी व्युत्पन्न जानकारी का आकलन किया जाता है।